/* remove this */ Blogger Widgets /* remove this */

Saturday, April 21, 2012

UPTET : A Small Article

UPTET : A Small Article
उत्तर प्रदेश शिक्षक भर्ती : अब क्या होगा रे हम कठपुतलियों का 

अभ्यर्थी खिलौना हो गए - कभी राज्य सरकार की  ओर   देखते  हैं तो कभी कोर्ट की ओर क्या भविष्य होगा , कब  नौकरी  लगेगी 

लगता है  मीडिया को टीईटी  अभ्यर्थियों   की पीड़ा दिखाई नहीं दे रही -
जो लोग  कह रहे हैं कि परीक्षा में  धांधली हुई  है , इन लोगो को भी १० वी या १२ वी कक्षा में फेल कर देना चाहिए ,  क्योकि  इनके साथ  में   कभी किसी और ने नक़ल की थी और वो धांधली में पकड़ा गया , और दोबारा से परीक्षा करानी चाहिए , तब तक कराते रहना चाहिए जब तक कि १०० % शुद्धता से परीक्षा संपन्न न हो जाये |


अभी हाल ही में U. P. में १०, १२ क़ी परीक्षा हुई तथा 
विश्वविद्यालय क़ी परीक्षा चल रही है, आये दिन नकलची पकड़े जा रहे हैं तो क्या पूरी परीक्षा रद्द हुई, नहीं , केवल दोषी  विद्यार्थी ही सजा के पात्र होते हैं , सारे  विद्यार्थी नहीं |

मीडिया में आये दिन टी ई टी भर्ती  निरस्त होने की बाते आ रही है , विज्ञापन निरस्त हुआ नहीं और मामला अदालत में चल रहा है 
हो सकता है कि टी ई टी भर्ती  निरस्त करने की कोई  तैयारी   क़ी  जा रही हो , पर  अभ्यर्थी मानसिक तनाव से गुजर रहे हैं उसको देखते हुए सभी नियम कानून की स्पष्ट व्याख्या के साथ ख़बरें दी जानी चाहिए

कोई भी तथ्यों की बात नहीं करता , हर समय खबरे आती रहती हैं कि - टी ई टी सिर्फ  एलिजीबिलिटी टेस्ट है 

वे लोग इतने  गैर जिमेदाराना बात इतनी आसानी से कह देते हैं जैसे कोई हंसी मजाक हो जब नियम बनाये तब तो कुछ कहते नहीं है , अब आप ही देखीये नियम क्या कहते हैं -
एन  सी  टी ई ने साफ़  शब्दों  में कहा  है  कि टी ई टी अंकों को  चयन  में वेटेज दीया जाये  -

तो साफ है कि ये सिर्फ पात्रता परीक्षा नहीं है , चयन का एक आधार भी देती है

9(b) should give weightage to the TET scores in the recruitment process
however, qualifying the TET would not confer a right on any person for recruitment/employment as it is only one of the eligibility criteria for 
appointment

टी ई टी अंकों के  सुधार  / वृद्धी   हेतु  , अभ्यर्थी पुन : परीक्षा  में   बैठ  सकते -
See :
Frequency of conduct of TET and validity period of TET certificate :-
11 The appropriate Government should conduct a TET at least once every year. The Validity Period of TET qualifying certificate for appointment will be decided by the appropriate Government subject to a maximum of seven years for all categories. But there will be no restriction on the number of attempts a person can take for acquiring a TET Certificate. A person who has qualified TET may also appear again for improving his/her score

अगर ये  ये पात्रता परीक्षा है, तो अंकों के सुधार का क्या मतलब 

इस  समय अभ्यर्थी  वैसे ही मानसिक वेदना से गुजर  रहे हैं और ऐसी गैर जिम्मेदाराना बातें उन पर क्या असर डालती होंगी , कोई मतलब नहीं 

ऐसी भ्रामक जानकारी से अगर कोई हादसा हो जाये  तो कोन जिम्मेदार  होगा  

ये लोग के वी  एस(K.V. S) भर्ती , एस  एस  ए,  चंडीगढ़  की भर्ती के खिलाफ क्यूँ नहीं  आवाज  उठाते वहां भी टी ई टी के अंकों का भर्ती में उपयोग किया गया |
 अभी हाल ही में केवीएस (K.V. S) ने अपने सेलेक्सन में टीईटी मार्क्स  को कट - ऑफ़ में लिया |
एसएसए चंडीगढ़ ने ५० प्रतिशत टीईटी मार्क्स को  सेलेक्सन में  वेटेज दिया , राजस्थान ग्रेड थ्री अध्यापक के चयन में २० प्रतिशत टीईटी मार्क्स  के  वेटेज को लिया जा रहा है 
-----------------

इलाहबाद हाई कोर्ट ने साफ शब्दों में कहा कि -
टी ई टी अंकों से चयन , एन सी टी ई के नियमानुसार है व एक बार प्रक्रिया निर्धारित होने के बाद उसका बदला जाना पक्षपात पूर्ण है (जब गेम / प्रक्रिया शुरू हो चुकी हो

See :http://naukri-recruitment-result.blogspot.in/2011/12/uptet-allahabad-highcourt-dismissed.html



यु पी टीईटी के माध्यम से नियमानुसार अभ्यर्थी (टीईटी  मेरिट  होल्डर)  नोकरी पाने व भर्ती के पात्र थे |
सिर्फ काउंसलिंग के जरिए भर्ती पात्र / नियुक्ति पात्र दीये  जाने बाकि थे |


For the purpose of making selection and appointment as Assistant Teacher the said qualification cannot be made a basis/foundation particularly considering the process of the said test as it amounts to change of rules of the game when the game has already commenced and in support thereof placed reliance on judgements of this Court in K. Manjusree Vs. State of Andhra Pradesh and another (2008) 3 SCC 512 and Hemani Malhotra Vs. High Court of Delhi (2008) 7 SCC 11.


In these circumstances, it cannot be said that rules of the game have been changed afterwards inasmuch the two processes cover different fields and operate totally differently.

In Baloji Badhavath (supra), it was held that a procedure evolved for laying down mode and manner for consideration of a right to be considered for appointment can be interfered with only when it is arbitrary, discriminatory or wholly unfair, which learned counsel for petitioner failed to prove in the case in hand and, therefore, reliance placed thereon is totally misconceived.


9. So far as making of qualifying examination basis of selection is concerned, it is always permissible to the rules framing authority to determine the criteria for selection which may base on the merits of the candidate possessed in various academic qualifications or qualifying test or any other criteria which may otherwise be valid and once it is so determined, unless it can be said that the same amendment in the rule is contrary to any statutory provision or otherwise ultra vires or vitiated in law, the same cannot be interfered.
-------------
काफी  सारे मामलों में कोर्ट ने स्पष्ट किया की - 
टी ई टी अंकों से भर्ती  सराहनीय   है  क्योकि इससे पक्षपात रहित भर्ती होती है , विद्यार्थी चाहे किसी भी बोर्ड के हो , चाहे उनके कितने भी प्रतिशत अंक हो , टी.इ. टी. सारे विद्यार्थियों के लिए समान है  और कोई नियम का उल्लंघन  नहीं हुआ है , पर  मीडिया  इन   सब  खबरों  से दूर  है कारण - बहुमत टी ई टी फेल  वालों व  अन्य  के साथ  है 
सच  को झूठ  व झूठ को सच  में   बदलना असली  खेल है 
देखीये कोर्ट के निर्णय : 


कोर्ट ने  बेवजह  टी ई टी  केंडीडेट्स पर आरोप  लगाने  पर जुरमाना  भी लगाया ,
पर मीडिया ने ऐसी बातें / रिपोर्ट कभी  नहीं दी 

जब भर्ती परीक्षाएं आयोजित की जाती हैं तो टी ई टी को भर्ती परीक्षा के रूप में स्वीकार कर सकते  है  जब इसके अंकों का महत्व है 
टी ई टी वास्तव में एक टीचर एप्टीटिउयूड   टेस्ट है जो कि एन सी टी ई के नियमानुसार योग्य अभ्यर्थियो  के चयन में मदद  करता है 
-------------------
 U. P. में ही लुट  गया    U. P.  बोर्ड  

जब केंद्र  सरकार  स्केलिंग  पद्दति से चयन करती है तो   U. P.  बोर्ड क्यूँ नहीं -
See :


Percentage Cut-off Marks# of Various State-Boards Result in class XII for
2008, 2009, 2010, and 2011



2008
2009
2010
2011
UP Board
69.2
72.6
77
77
CBSE
91
92.4
91.8
93.2
ICSE
93
93.3
93.2
93.43



बड़े अधिकारी  (जो निर्णय लेते हैं) उनके बच्चे सी बी एस ई / आई सी एस ई बोर्ड में पड़ते हैं तो वो   U. P.  बोर्ड वालों  की क्यों सोचें 

पूर्व में कई बार खबर आयी  (एल टी ग्रेड टीचर सेलेक्सन , बी टी सी चयन आदि ) की उत्तर प्रदेश में   U. P.  बोर्ड के लोग पिछड़  जाते हैं और कुछ  घोटाले  भी उजागर हुए हैं ( सम्पूर्णानन्द यूनीवर्सिटी आदि द्वारा और अदालत ने इस पर तल्ख़ टिप्पणी भी की है ) देखीये -


-----------------

विज्ञापन विषय  :
जब विज्ञापन निकाला गया तब तो किसी विभागीय अधिकारी ने कोई टिप्पणी नहीं की - कि उनके अधिकारों का कोई हनन हुआ है इसका तात्पर्य है कि सभी कार्य - उत्तरदायी अधिकारी ( ( सभी 
जिले के बेसिक शिक्षा अधिकारी ) की जानकारी में हुए हैं |
पर लगता है कि किसी एक टीईटी अभ्यर्थी  (जिसके टीईटी परीक्षा में कम अंक आये ) ने मामले को लटकाने के लिये - किसी नियम का गलत सहारा लिया है 


कई लोगो का  मानना है  कि  कोर्ट को ऐसा हल निकलना चाहिए -
कि लाठी भी न टूटे और सांप भी मर जाये 

जब लाखों अभ्यर्थीओं  ने उत्तर प्रदेश  प्राथमिक / असिस्टेंट शिक्षक में चयन के लिये शासनादेश के आधार पर आवेदन कर ही  दिया  है , तो विज्ञापन संशोधन जैसा कोई आदेश आ जाये |
क्योंकी विज्ञापन के निकलने में  अभ्यर्थियों    की कोई गलती नहीं है |
जिन लोगो ने अभ्यर्थियों   के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया है , उन्हें कठोर दंड  दिया  जाना चाहिए , जिससे ऐसी गलती कि पुनरावृति न हो |

इससे पहले भी रिसल्ट / परीक्षा  परिणाम के संसोधन हो चुके हैं , तो ये कोई बड़ा मसला नहीं है |
(It is felt by many candidates/viewers)

41 comments:

  1. mr. adhykshya pratapgarh give your mob. no. taki hum sab bhi meeting mein samil ho sake i am also from pratapgarh

    ReplyDelete
  2. agar acd. merit se recruitment huyi to up board ke students ko ek bhi seat nahi milegi to hum log form dal ke kya kareinge vigyapan mein likh dena chahiye ki yeh bharti keval cbse aur icse board ke students ke liye hai kripya up board wale form na dale................aur ve sab jake english mein k kh g gh primari mein padhyeinge

    ReplyDelete
  3. AB TET MERIT WALE KAHA GAYE AB NAHI JANA SUPREEM COURT

    ReplyDelete
  4. 20% WEIGTAGE BHI LOGE TO JISKE 120 HAI USKE 24 ADD HONGE AUR JISKE 110 HAI USKE 22 .JYADA FARK NAHI PADEGA.1-2 NO. SE ACADEMIC MAIN UP WALO KE 65 HAI JABKI CBSE WALO KE 85 AB YAHA FARK KAISE MITAOGE.ASLI SAMSHYA TET KE 2 NUMBER KE WAEIGTAGE SE SOLVE NAHI HOGI.TET WEIGTAGE SE BHI KOI FAYDA NAHI HONE WALA.

    ReplyDelete
  5. Meri sabhi tetians se vintee h k mamle ki gambhirta ko dekhte hue hame atishighr hi koi qadam uthana padhega. Me apne istar se jo b kar sakta hun use karne ko taiyar hun. Me Delhi me rehata hun or 2-4 log agar yahan akar SC k wakeel se milna or PIL dakhil karna chahte h to ap mere yahan a jaeyen, me b apke sath chalunga or har qadam par apka sath dene ko taiyar hun. Zubair (Delhi). 09990832796

    ReplyDelete
  6. media ko bas apna akhbar bechana hai chahe khabar jhuthi kyon na ho.

    ReplyDelete
  7. अब कुछ नहीँ हो सकता है जाकर कोई मायावती और अनिल संत को ढूँढो और जवाब तलब करो क्योकि अखिलेश ने जो करना था कर दिया

    ReplyDelete
  8. Karmsil apna Bhagya khud likhsyr hsi.

    Come to Rajebabu Park on Sunday April 20, 2012 at 10:00AM Meeting.

    TET MORCHA
    BULANDSHAHR

    ReplyDelete
  9. Agar tet me dhandli ke karan ise aharta nahi mana ja raha hai to ise patrta bhi kaise mana ja sakta hai.fir to tet cencle karna behtar hoga.ham tet fir dene ke liye tayyar hai magar merit tet se hi lagvayenge.

    ReplyDelete
  10. Kl western up k sabhi jiladyaksho ki behut jrori meating moradabad m hai.plz sbhi jiladyaksh jrore pehuch.venue k liye contact me.7500581360

    ReplyDelete
  11. Moradabad meating samvandhi kisi bhi jankari k liye call kre-vinay-7500581360,Gurupal-9758869752

    ReplyDelete
  12. Mr.Aditya ji from Faizabad is their need to have a meeting for our next step.

    ReplyDelete
  13. यहाँ पर टीईटी उत्तीर्ण छात्रो का हाल बन्दर और बिल्ळी जैसी होने वाली है ।
    एकेडमिक और टीईटी मेरिट के चक्कर मे टीईटी निरस्त होने वाली है ।
    ये बात सही है कि मामला सुप्रिम कोर्ट मे जाएगा और परिणाम छात्रो के पक्ष मे होगा, लेकिन सरकार अपने मकसद मे कामयाब होगी मतलब स्पष्ट है कि ये भर्ती प्रक्रिया लोकसभा चुनाव के पहले नही होगी ।
    रही भर्ती प्रक्रिया की बात तो ये सरकार ने अभी इसपर कोई स्पष्ट विचार नही किया है कि किस आधार पर किया जाए ।

    ReplyDelete
  14. singhaniya tet ka kewal 20% wieghtage hi mil sakta 100% nai

    ReplyDelete
  15. अब कुछ नहीँ हो सकता है जाकर कोई मायावती और अनिल संत को ढूँढो और जवाब तलब करो क्योकि अखिलेश ने जो करना था कर दिया

    ReplyDelete
  16. is akhilesh ne to hme bevkuf samaj rakha h dictetor ban gaya h apni political dushmani hmare jariye nikal rha h but ye bhul rha h ki hmme isse jyada akal hai or vo ise hm dikha denge

    ReplyDelete
  17. कल से मै टीईटी उत्तीर्ण संघर्ष मोर्चा के पदाधिकारियो से बात करने के प्रयास मे हूँ, लेकिन काल करने पर निम्नलिखित परिणाम मिल रहे हैँ-
    1. नितिन मेहता- नाट ऐँस्वरिँग
    2. निर्भय सिँह- आउट आफ रीच्ड
    3. विवेकानन्द- स्विच्ड आफ
    4. विवेक सिँह- नाट रीचेबल
    5. एस.के. पाठक- प्लीज काल लैटर

    वाह रे वीर सपूतो । अभी तो जंग छिणी ही नही और तुमने हार मान लिया ।

    ReplyDelete
  18. Bulandsahar ke jilaadhyalash kirpaya aap kal moradabad main meet ke liye ayen.

    ReplyDelete
  19. Hamare leaders kahan hain....Plz aap log koi comments de aur aage ka plan v batayen...

    ReplyDelete
  20. Mulayam Singh YADAV
    Ji ab Aap is jindagi me
    To prime minister nahi
    Ban paayenge

    ReplyDelete
  21. इलाहाबाद : शिक्षक भर्ती में
    टीईटी की बजाय शैक्षिक मेरिट
    को आधार बनाना प्रतियोगी छात्र
    छात्राओं के साथ धोखा है। वास्तव में
    यह शिक्षा माफिया के
    हौसलों को बुलंद रखने की प्रशासन की एक चाल है। इससे गुणवत्तापूर्ण
    शिक्षा का मार्ग अवरुद्ध होगा। यह
    बातें उत्तर प्रदेश टीईटी उत्तीर्ण
    संघर्ष मोर्चा की चंद्रशेखर आजाद
    पार्क पर हुई एक बैठक में वक्ताओं ने
    कहीं। बाद में छात्राओं ने सिविल लाइंस सुभाष चौक पर मुख्य सचिव
    जावेद उस्मानी का पुतला फूंका। छात्रों ने कहा कि जावेद उस्मानी ने
    अपनी रिपोर्ट में कहा है
    कि टीईटी को कहीं भी चयन का आधार
    नहीं बनाया गया है। सचाई यह है
    कि नवोदय और केंद्रीय विद्यालय
    संगठन में सीटीईटी की ही मेरिट को आधार बनाया गया है।
    टीईटी मेरिट के मानक सभी के लिए
    समान हैं। धांधली की भी अभी तक
    पूरी जांच नहीं हो पाई और फैसला ले
    लिया गया। यही नहीं चुनाव के पहले
    प्रदेश सरकार ने एकेडमिक मेरिट की विसंगतियों के आधार पर
    टीईटी मेरिट के आधार पर चयन
    संबंधी विज्ञापन जारी किया था।
    अध्यक्षता विवेकानंद ने की। बैठक और
    पुतला दहन में संजय यादव, अभिषेक
    सिंह, सुजीत सिंह, सुरेश मणि, सदानंद मिश्र, प्रियंका साहू, रूबी पाल,
    संजीव मिश्रा, ज्ञानेश, मनमोहन,
    सुल्तान अहमद, आशुतोष केसरवानी,
    आनंद यादव, मो. शोएब आदि रहे।

    ReplyDelete
  22. एटा, निज प्रतिनिधि: शिक्षक
    भर्ती प्रक्रिया में
    टीईटी अभ्यर्थियों ने राज्य सरकार
    द्वारा किये गये संशोधन के विरोध में
    आर-पार के संघर्ष की तैयारी तेज कर
    दी है। वे मैरिट पर शिक्षक भर्ती के विरुद्ध सत्ता विरोधी संघर्ष
    को लामबंद होने लगे हैं। भारतीय
    जनता युवा मोर्चा ने सपा शासन के इस
    कदम को टीईटी अभ्यर्थियों के साथ
    अन्यायपूर्ण मानकर सपा सरकार पर
    नकल को बढ़ावा देने का आरोप लगाया है। शनिवार को भाजयुमो की बैठक प्रदेश
    कार्यसमिति सदस्य नवीन
    चतुर्वेदी की आवास पर हुई।
    कार्यकर्ताओं ने कहा कि प्राथमिक
    विद्यालयों में शिक्षकों की नियुक्त
    टीईटी अभ्यर्थियों की मैरिट के आधार पर की जानी चाहिए। शैक्षिक मैरिट
    को भर्ती का आधार
    बनाया जाना भ्रष्टाचार और नकल
    को बढ़ावा देना है। इससे योग्यता पर
    कुठाराघात होगा। शैक्षिक मैरिट में
    फर्जीवाड़ा कितने व्यापक पैमाने पर है। यह किसी से छिपा नही है। माधव
    पचौरी ने कहा कि प्रदेशभर में दूसरों के
    स्थान पर परीक्षा देना, डिग्रियों में
    अंक बढ़वाना, प्रश्नपत्र आउट
    कराना ही नहीं संसाधनों के अभाव में
    उच्च शिक्षा संस्थान चलाने की मान्यता प्राप्त कर
    लेना भी शिक्षा के स्तर
    का आईना बताते हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री से मांग की कि इस
    मामले की पारदर्शी ढंग से जांच कराई
    जाये, मुख्य सचिव निजी स्कूल
    संचालकों से धन वसूल कर अकादमिक
    मैरिट की वकालात कर रहे हैं। ऐसे मुख्य
    सचिव को तत्काल बर्खास्त किया जाना चाहिए। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि शीघ्र
    निर्णय न
    बदला गया तो टीईटी अभ्यर्थियों को
    साथ लेकर प्रदेश व्यापी आंदोलन छेड़
    दिया जायेगा। सरकार को इसके घातक
    परिणाम भुगतने होंगे। इस अवसर पर माधव पचौरी, अभिषेक
    कुदेसिया, अर्पित उपाध्याय, बंटी,
    मानपाल सिंह वर्मा, गौरव शर्मा,
    पंकज चौहान, अरविन्द गुप्ता, सुनील
    गुप्ता, मुकेश बघेल, विकास चौहान
    आदि टीईटी अभ्यर्थी और भाजयुमो कार्यकर्ता मौजूद थे।

    ReplyDelete
  23. Jaha tak meri openion hai (sirf meri) k hamain 30 april tak wait krna chahiye...Lekin ek perfect plan k sath k...agar hamare (TETians) k against koi baat hoti hai to bina waqt gawaye hum log turant strong action le sake...Plz comment

    ReplyDelete
  24. AGRA ME TET SANAGRSH MORCHA KI MEETING 22/04/2012 KO SUBAH 10 BAJE SHAEED SMARAK SANJAY PLACE ME HOGI...SABHI LOG TIME PAR PAUCHE AUR AGAR KAL NA AA SAKE TO YE BHI HO SAKTA HAI YE AAKHIRI MEETING HO..

    ReplyDelete
  25. Ncte ne clause 9 (b) me likha hai ,tet ka weightage diya ja sakta hai,aur tet pas job k dava nhi kar sakte ,ye sirf patrata exam hai. Acd. Walo aur media ko itni asan bat samajh nahi aayi, usne patrata exam is base par kaha ki koi candidate exam pas karne k bad job ka daava na thok de. clause 9(b) dhyan se padhe to clear ho jata hai. Rahi bat weightage ko to wo 1% se 100% tak ho sakta hai.

    ReplyDelete
  26. Media kitna corrupt ho gaya is news se pata chalta hai. NDTV ne Abhishek manu singhavi(spokesman of congress) k SEX tape ko channel par na chalane k liye unse paise liye. Aur ye satya k swayambhu thekedar hamare Tet par ungli uthate hai. Bloddy culprits media, jidhar malai dekhi us govt. Ki taraf jeebh hilane lagte hai.

    ReplyDelete
  27. acd..acd..acd....acd hi jab shreth hai to B.ed ka intrence kyo karaya ja raha vha bhi acd chalao..........nakalchio ko teacher bana kar utter pradesh ko ulloo pradesh banao.....man gai utter pradesh ke shreth sachiv & mantrio.......

    ReplyDelete


  28. मुख्य सचिव का फूंका पुतला

    Apr 21, 08:32 pm

    बताएं

    इलाहाबाद : शिक्षक भर्ती में टीईटी की बजाय शैक्षिक मेरिट को आधार बनाना प्रतियोगी छात्र छात्राओं के साथ धोखा है। वास्तव में यह शिक्षा माफिया के हौसलों को बुलंद रखने की प्रशासन की एक चाल है। इससे गुणवत्तापूर्ण शिक्षा का मार्ग अवरुद्ध होगा। यह बातें उत्तर प्रदेश टीईटीउत्तीर्ण संघर्ष मोर्चा की चंद्रशेखर आजाद पार्क पर हुई एक बैठक में वक्ताओं ने कहीं। बाद में छात्राओं ने सिविल लाइंस सुभाष चौक पर मुख्य सचिव जावेद उस्मानी का पुतला फूंका।

    छात्रों ने कहा कि जावेद उस्मानी ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि टीईटी को कहीं भी चयन का आधार नहीं बनाया गया है। सचाई यह है कि नवोदय और केंद्रीय विद्यालय संगठन में सीटीईटी की ही मेरिट को आधार बनाया गया है। टीईटी मेरिट के मानक सभी के लिए समान हैं। धांधली की भी अभी तक पूरी जांच नहीं हो पाई और फैसला ले लिया गया। यही नहीं चुनाव के पहले प्रदेश सरकार ने एकेडमिक मेरिट की विसंगतियों के आधार पर टीईटी मेरिट के आधार पर चयन संबंधी विज्ञापन जारी किया था। अध्यक्षता विवेकानंद ने की। बैठक और पुतला दहन में संजय यादव, अभिषेक सिंह, सुजीत सिंह, सुरेश मणि, सदानंद मिश्र, प्रियंका साहू, रूबी पाल, संजीव मिश्रा, ज्ञानेश, मनमोहन, सुल्तान अहमद, आशुतोष केसरवानी, आनंद यादव, मो. शोएब आदि रहे।

    ReplyDelete
  29. ंDainik jagran allahabad

    मुख्य सचिव का फूंका पुतला

    Apr 21, 08:32 pm

    बताएं

    इलाहाबाद : शिक्षक भर्ती में टीईटी की बजाय शैक्षिक मेरिट को आधार बनाना प्रतियोगी छात्र छात्राओं के साथ धोखा है। वास्तव में यह शिक्षा माफिया के हौसलों को बुलंद रखने की प्रशासन की एक चाल है। इससे गुणवत्तापूर्ण शिक्षा का मार्ग अवरुद्ध होगा। यह बातें उत्तर प्रदेश टीईटीउत्तीर्ण संघर्ष मोर्चा की चंद्रशेखर आजाद पार्क पर हुई एक बैठक में वक्ताओं ने कहीं। बाद में छात्राओं ने सिविल लाइंस सुभाष चौक पर मुख्य सचिव जावेद उस्मानी का पुतला फूंका।

    छात्रों ने कहा कि जावेद उस्मानी ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि टीईटी को कहीं भी चयन का आधार नहीं बनाया गया है। सचाई यह है कि नवोदय और केंद्रीय विद्यालय संगठन में सीटीईटी की ही मेरिट को आधार बनाया गया है। टीईटी मेरिट के मानक सभी के लिए समान हैं। धांधली की भी अभी तक पूरी जांच नहीं हो पाई और फैसला ले लिया गया। यही नहीं चुनाव के पहले प्रदेश सरकार ने एकेडमिक मेरिट की विसंगतियों के आधार पर टीईटी मेरिट के आधार पर चयन संबंधी विज्ञापन जारी किया था। अध्यक्षता विवेकानंद ने की। बैठक और पुतला दहन में संजय यादव, अभिषेक सिंह, सुजीत सिंह, सुरेश मणि, सदानंद मिश्र, प्रियंका साहू, रूबी पाल, संजीव मिश्रा, ज्ञानेश, मनमोहन, सुल्तान अहमद, आशुतोष केसरवानी, आनंद यादव, मो. शोएब आदि रहे।

    ReplyDelete
  30. ALL TET merit holders,
    Doston ab hame aar paar ki ladai shuroo karni hai .... TET sangharsh morcha ko aage ki ranneeti tay karni hogi aur court jane ki taiyari shuroo kar deni chahiye...... agar hamare TET sangharsh morcha ke leaders hatash ho gaye hai aur har maan li hai to naye log samne aaye ...hare hue logon ke sath jang nahi jeeti jati.....aur hame to ye ladai ladni hai apne haq ke liye....bhaiyon ....be united and make strong strategy for the fight ahead....

    ReplyDelete
  31. bhaiyo hum sab jante hai ki kuch bhi ho last decision coart ka hi hoga isliye highcoart ka decision ane se pahle hi apne ko supreme coart ke liye taiyar ho jana chahiye....
    aur kuch bahut hi acche aur important
    proof against tet cancilation ekathe kar lene chahiye jisse hum SC me strong situation me pahuch sake....
    jaise kuch logo ki age limit khatam ho rahi hai....

    ReplyDelete
  32. intjaar kar kar ke kuchh nahi paoge/ab na kiya aandolan to pachhtaoge/kuchh na karoge to nahi ab kuchh hoga/aise hi ham sabse bas dhokha hoga/sashan apna nirnay yu hi sunaayega/mitti me zindgi hamaari milaaye ga/ kyu baithe rahe maun ab tum hi kaho/aandolan ke liye kyu na lucknow chalo/ chalo lucknow chalo..sangharsh zindabaad.tet zindabaad..

    ReplyDelete
  33. yaad rahe ki ye mishal banani hai ki log kahenge ki ek baar 72825 teacher ki vacancy ayi thi aur uspar coart stay ho gaya tha lekin kuch junun tha un tetians me jo unhone apna haq aur apne do bhaiyo ki maut ka badla le kar hi dam liya tha...
    bhaiyo hum piche nahi hatenge aage bhadhenge aur jitenge...

    ReplyDelete
  34. JOSH NA THANDA HONE PAYE KADAM MILAKAR CHAL...
    MANJIL TERE PAG CHUMEGI AAJ NAHI TO KAL...
    BBBBBOLO BHAI T.E.T MERIT JINDABAD

    ReplyDelete
  35. IF ACADEMIC MERIT IS THAT MUCH IMPORTANT AND IF GOVT IS ABLE TO PROVIDE QUALITATIVE EDUCATION TO ALL THEIR STUDENTS THEN WHHHHHYYYYY NCTE IS CONDUCTING TET EXAMINATION FOR ALL CANDIDATES??????? I AM STRONGLY IN FAVOUR OF TET BASED SELECTION FOR THE RECRUITMENT OF THE ASSISTANT TEACHER IN UP.

    ReplyDelete
  36. up tet ke liye aise dharana pardarshan karana padega . uptetki marit aur academic record ka 50% jodkar marit banakar teachero niyukti honi chahiye jisase dono tarah ke candideto ka bhala ho sake.

    ReplyDelete
  37. sahi kaha UP me hi loot gaya UP board,CBSE,ICSE ki balle balle

    ReplyDelete


  38. hi frnds

    Maths/Sci ki 29800 bharti par stay hona chahiye jab tak TET exam nahi ho jata.

    sabhi NON TET court k liye ready ho jayo kyoki is Govt. ne pehele se TET kyo nahi karvaya(2011 ke bad)

    Boss it's really upsetting for those who r gonna give TET on 27th june. Govt. shud have waited for at least 2 months more for opening these vacancies
    9810476479

    ReplyDelete

Please do not use abusive/gali comment to hurt anybody OR to any authority. You can use moderated way to express your openion/anger. Express your views Intelligenly, So that Other can take it Seriously.
कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय अभद्र शब्द या भाषा का प्रयोग न करें। अभद्र शब्दों या भाषा का इस्तेमाल आपको इस साइट पर राय देने से प्रतिबंधित किए जाने का कारण बन सकता है। टिप्पणी लेखक का व्यक्तिगत विचार है और इसका संपादकीय नीति से कोई संबंध नहीं है। प्रासंगिक टिप्पणियां प्रकाशित की जाएंगी।