/* remove this */ Blogger Widgets /* remove this */

Wednesday, September 12, 2012

UPTET : टीईटी सरकार ने दिया हाईकोर्ट में आश्वासन


UPTET   : टीईटी  सरकार ने दिया हाईकोर्ट में आश्वासन



शीघ्र जारी होगा विज्ञापन

इलाहाबाद (ब्यूरो)। सूबे मेें टीईटी उत्तीर्ण अभ्यर्थियों के सहायक अध्यापक पद पर चयन एवं नियुक्ति के लिए प्रदेश सरकार शीघ्र ही नया विज्ञापन जारी करेगी। मंगलवार को सरकार की ओर से हाईकोर्ट में बताया गया कि दिसंबर 2011 को जारी विज्ञापन रद करने के बाद सरकार शीघ्र ही नया विज्ञापन जारी कर परिषदीय स्कूलों में अध्यापकों के रिक्त पदों को भरेगी। याचिका पर सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने अध्यापकों के पद रिक्त होने पर अपनी चिंता जाहिर करते हुए कहा कि राज्य सरकार का दायित्व है कि वह पर्याप्त संख्या में शिक्षकों की नियुक्ति करे।
इससे पूर्व सहायक अध्यापकों की नियुक्ति के लिए जारी दिसंबर 2011 के विज्ञापन को चुनौती देने वाली
यादव कपिलदेव की याचिका हाईकोर्ट ने निष्क्रिय होने के आधार पर खारिज कर दी है। एक अन्य याची शिवप्रकाश कुशवाहा की याचिका पर सुनवाई के दौरान अपर महाधिवक्ता सीबी यादव ने न्यायालय को अवगत कराया कि सरकार बहुत शीघ्र नया विज्ञापन जारी कर पदों पर भर्ती की प्रक्रिया प्रारंभ कर देगी।
सरकार इस दिशा में लगातार प्रयासरत है। इससे पूर्व 2004, 2007 और 2008 में सहायक अध्यापकों की नियुक्ति की गई थी। इस दौरान टीईटी मामले को लेकर अन्य याचिकाओं पर भी सुनवाई
 दौरान अपर महाधिवक्ता सीबी यादव ने न्यायालय को अवगत कराया कि सरकार बहुत शीघ्र नया विज्ञापन जारी कर पदों पर भर्ती की प्रक्रिया प्रारंभ कर देगी। सरकार इस दिशा में लगातार प्रयासरत है। इससे पूर्व 2004, 2007 और 2008 में सहायक अध्यापकों की नियुक्ति की गई थी। इस दौरान टीईटी मामले को लेकर अन्य याचिकाओं पर भी सुनवाई के लिए 27 सितंबर की तिथि नियत की गई है। एक अन्य याची रत्नेश कुमार पाल ने संशोधन प्रार्थनापत्र दाखिल कर दो सितंबर को प्रदेश सरकार द्वारा जारी अधिसूचना और विज्ञाप्ति को चुनौती दी है। दो सितंबर की अधिसूचना से सरकार ने दिसंबर 2011 को जारी विज्ञापन को रद कर दिया है। न्यायालय ने संशोधन प्रार्थनापत्र पर प्रदेश सरकार को दो सप्ताह में अपना जवाब दाखिल कर देने का निर्देश दिया है

News Source : Amar Ujala (12.9.12)


बीटीसी व विशिष्ट बीटीसी वालों को राहत, बिना टीईटी के ही बन सकेंगे शिक्षक

लखनऊ। राज्य सरकार बीटीसी 2004 और 2004 से लेकर 2008 तक विशिष्ट बीटीसी करने वालों के लिए शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) पास करने की अनिवार्यता समाप्त करने जा रही है। इस संबंध में बेसिक शिक्षा मंत्री रामगोविंद चौधरी की अध्यक्षता में हुई बैठक में सहमति बन चुकी है और राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) ने इसके आधार पर शासन को प्रस्ताव भी भेज दिया है। कैबिनेट से मंजूरी के लिए शीघ्र ही प्रस्ताव रखने की तैयारी है। मुख्यमंत्री इस संबंध में सीधे अनुमति भी दे सकते हैं। इसके बाद शिक्षक बनने का इंतजार कर रहे करीब 5500 अभ्यर्थियों को तत्काल शिक्षक बनने का फायदा मिल जाएगा।
प्रदेश के बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में शिक्षक रखने की योग्यता बीटीसी है। विशेष परिस्थितियों में राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) से अनुमति लेकर बीएड डिग्रीधारकों को छह माह का विशिष्ट बीटीसी का प्रशिक्षण देकर सहायक अध्यापक रखा जाता रहा है।

यूपी में वर्ष 2004 में सामान्य बीटीसी और वर्ष 2004, 2007 और 2008 में विशिष्ट बीटीसी के तहत भर्ती प्रक्रिया शुरू की गई। इस अवधि में चयनित कुछ अभ्यर्थियों को कुछ कमियों के चलते प्रशिक्षण देने से मना कर दिया गया। कोर्ट के निर्देश पर बाद में ऐसे अभ्यर्थियों को वर्ष 2011 में प्रशिक्षण दिया गया। यूपी में आरटीई जारी होने के साथ यह अनिवार्य कर दिया गया कि टीईटी पास करने वाला ही शिक्षक भर्ती प्रक्रिया में शामिल होने के लिए पात्र होगा। इसके चलते कोर्ट के आदेश पर ट्रेनिंग पाने वालों की नियुक्ति लटक गई।
2011 में तत्कालीन बसपा सरकार के निर्णय के आधार पर बीटीसी और विशिष्ट बीटीसी करने वालों को पहली बार आयोजित टीईटी में शामिल होने का मौका दिया गया, लेकिन कुछ पास हुए और कुछ नहीं। ऐसे अभ्यर्थियों ने बेसिक शिक्षा मंत्री से मुलाकात की और तर्क दिया कि उनके पद स्वीकृत हैं और उनकी ट्रेनिंग का निर्णय शिक्षा का अधिकार अधिनियम नियमावली लागू होने से पहले का है, इसलिए उन्हें भी अन्य लाभार्थियों की तरह नियुक्ति दी जाए।
सूत्रों का कहना है कि इसके आधार पर ही यह सहमति बनी है। एससीईआरटी ने इस आधार पर ही प्रस्ताव भेजा है। तर्क दिया गया है कि बीटीसी 2004 और वर्ष 2004 से लेकर वर्ष 2008 तक विशिष्ट बीटीसी के अभ्यर्थियों के प्रशिक्षण का विज्ञापन शिक्षा का अधिकार (आरटीई) अधिनियम नियमावली लागू होने के पहले दिया है और इनका चयन एनसीटीई मानकों के अनुसार हुआ है, इसलिए इन्हें टीईटी से छूट देने पर विचार किया जा सकता है


**********************************

News Analysis : In Next 15 days UP Government will issue fresh advertisement for recruitment of teachers.
However it is not confirmed this new advertisement is for 72825 posts OR something else.
Because - Here direction is to fulfill shortcoming of teachers. May be advertisement can come for UPPER PRIMARY TEACHER as well esp. Science/Math teachers as in earlier news it was observed that their is high shortage of Upper PRT teachers.

39 comments:

  1. itni aasaani se kuchch nahi hoga. HC to mook darshak hai.

    ReplyDelete
  2. doston main aapse ek baat kahta hoom ki hum lade bina har rahe hain hamara paksh rakhne wala kal court mein koi nahi tha aur tandon to abhi pahli sidi tha doston aap mein se jo b saksam hain aur is faisle ko anayapurna manta hai woh please apne un sathiyon ki taraf se is matter ko aage challenge jaroor kare kyounki rawan ka sanhaar karne ke liye ek ram hi kafi the doston ab pani sar se upar jaa chuka hai hamare pass aur waqt nahi hai koi jaroori nahi hai ki koi bada vakeel hi kiya jaye is disha mein ek chota sa kadam b kahani ko badal ke rakh dega ab aur der ghatak hai tet merit ke un netaon ne jinhone paisa collect kiya woh beiman nikle jo b swatantra rup se is hetu prayass kar rahen hain unki mehnat ek din jaroor rang layegi tet merit supp aaj bahut asahay mahsoos kar rahe hain lekin abi nirasha ki koi baat nahi abi ladai shuru hi hui hai afsoos to keval is baat ka hai ki tet merit ki ekta ki baat karne wale court mein apna vakeel tak nahi khada kar pa rahein hain

    ReplyDelete
  3. (एसएनबी)। प्राथमिक स्कूलों में शिक्षकों के
    रिक्त पदों पर भर्ती कामानक बदलना तय है। अब
    शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) की मेरिट
    की बजाय पांच गुणांक कीमेरिट से
    शिक्षकों की भर्ती हो सकती है।
    बेसिक शिक्षा से जुड़े अफसरों ने इसकी कवायद शुरू कर दी है। फिलहाल अंतिम निर्णय विभागीय
    मंत्री की मंजूरी के बाद कैबिनेट से होगा। उल्लेखनीय
    है कि सूबे में मायावतीसरकार ने आरटीई तो लागूकर
    दिया था, लेकिन परिषदीयस्कूलों में 72528 और
    सम्बद्ध प्राइमरी में आठ हजार से ज्यादा शिक्षकों के
    पद रिक्त हैं। राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद ने सूबे को विशिष्ट बीटीसी की मंजूरी देने की बजाय
    राज्य स्तर पर शिक्षक पात्रता परीक्षा को मानक
    बनाने की मंजूरी दे दी।आरटीई के तहत शिक्षकों के
    रिक्त पदों को भरने के लिए पूर्व सरकार को 31
    दिसम्बर 2011 तक की मोहलत मिली, लेकिन
    अध्यापक पात्रता परीक्षा (टीईटी) को लेकर लगातार मानक बदलते गये। पहले तो विशिष्ठ
    बीटीसी की भांति चार गुणांक का आधार बनाने
    की सहमति बनी। राज्य मंत्रिमण्डल से
    इसकी मंजूरी भी मिल गयी, लेकिन जब
    नियुक्ति की बारी आयी तो तत्कालीन बेसिक
    शिक्षा सचिव ने शिक्षक भर्ती के मानक को टीईटीकी मेरिट बना दिया और इसका शासनादेश
    जारी करके आयोजक माध्यमिक शिक्षा परिषद व
    सचिव को इसी के मुताबिकभर्ती प्रक्रिया आगे
    बढ़ाने के निर्देश दिये। 13 नवम्बर 2011
    को टीईटी परीक्षा और 25 नवम्बर को 2011
    को टीईटी का रिजल्ट घोषित हो गया, इसी बीच परीक्षा में सवाल विभाग के गले की फांस बन गये। राज्य
    सरकार ने दिसम्बर में भर्ती का विज्ञापन जारी कर
    दिया, लेकिन सवालों के जवाब को लेकर
    अभ्यर्थी कोर्ट गये और आगे की प्रक्रिया कोर्ट के
    आदेश पर चली, इसी बीच सूबे में 24 दिसम्बर से चुनाव
    आचार संहिता लागू हो गयी। राज्य सरकार को शिक्षकों की भर्ती के लिए दो महीने
    की मोहलत तो मिली है,
    लेकिन अब भर्ती का मानकबदलने की कवायद शुरू
    हो गयी है। शासन के उच्च पदस्थ सूत्रों का कहना है
    कि अब फिर पांच गुणांक की मेरिट से
    भर्ती की प्रक्रिया पूरी होगी। इसके तहत हाईस्कूल, इंटर, स्नातक, बीएड और
    टीईटी की मेरिट को मिलाकर अलग से मेरिट
    बनायी जा सकती है। इसकेलिए अफसरों ने विभागीय
    स्तर पर मंथन शुरू कर दिया है। माध्यमिक
    शिक्षा परिषद के अधिकारी भी दबी जुबान से
    मेरिट का मानक बदलने कीबात कर रहे हैं। एक अधिकारी ने कहा कि वैसेभी यह
    पूरा मामला बेसिक शिक्षा परिषद का है, इसके बारे में

    ReplyDelete
  4. Please tel me someone what's happen in the court on 11spt2012

    ReplyDelete
  5. lekin sarkar ek galti aur karne ja rahi hai jo ki ye hai k, upper primary me 50% seedhi bharti hogi aur wo bhi sirf MATH AUR SCIENCE k teachers ki to kya art walo ka tet bekar hi jayega are wo bhi to bechare naukary k liye bhatak rahe ya fir sarkar ko aisa lagta hai k unhe naukry ki jarurat hi nahi , isliye sarkar se vinamra nivedan hai k jo bhi kadam uthaye sabhi k hit me uthaye bhale hi thoda hi ho,

    ReplyDelete
  6. Sapa ke raaj mein aish karo. Padhane likhane ki koi jaroorat nahi. Afsos kewal itna ki shaayad teacher hi ban sako.

    ReplyDelete
  7. If up govt wants good teacher for parsdiya vidyalay,he will have to fill the recruiment with up tet merit
    because uptet is the best option for recuriment
    from आरुणि प्रजापति/

    ReplyDelete
  8. HAM KYA KAR RAHE HAI. HAM SABKO YE MAALOOM HAI KI SARKAR JO KAR RAHI HAI USKA MAKSAD SIRF RAJNAITAK LABH LENA HAI. LEKIN HAR SARKAR WAHI KAREGI CHAAHE MAYAWATI HON YA AKHILESH HO YA KOI AUR HO. KISI BHI TARAH SE BHARTI HO, APNE 72000+ BHAIYON KO NAUKARI MILEGI. AGAR HUM COURT KE MAAMLE ME PADENGE TO HUM CHAYAN PRAKRYA ME BADHA PAHUCHAAYENGE. AUR AISA BHI HO SAKTA HAI KI COURT KACHAHARI KE CHAKKAR ME YE SUNAHARA AVASAR CHALA BHI JAAYE.
    EK AUR TET HO GAYA TO TET MERIT KA KYA LEVEL HOGA, KISI KO NAHI MAALOOM. HO SAKTA HAI YE BAHUT HIGH CHALI JAAYE KYONKI AB SABKO PATTERN BHI PATA HO GAYA HAI. 120+ OBC, 130+ GENRAL AUR 105+ SC/ST BHI PHAS SAKTE HAI. PHAISLA AAPKE HATH ME HAI. AGAR NAUKRI MIL GAYI TO 3,00000 SAAL KA AAPKA HAI..........

    AMRESH TIWARI

    ReplyDelete
  9. friends ap itna pareshan q ho rahe hai judge sahab ne cancellation notification ke khilaf diye gaye writ amendment ko accept kar liya hai wa govt ne adv q cancel kiya uska jawab 14dino mai manga hai .legally pehle btc vbtc walo ke appointment start ho jane ke bad hamare (tet merit supporters )ke writ par hearing possible hai .judge sahab ne btc wa vbtc ke appointment ke liye niymanusar adv nikalne ko kaha hai wa vivad ki isthit par iska solution 27sep ko karne ke liye kaha hai .just wait and watch picture abhi baki hai .

    ReplyDelete
  10. मै
    राजकुमार ग्राम ताहिरपुर पूरा फैजाबाद उम्र 38year(OBC)
    मेरा अकेडमिक मेरिट206है और tet merit 116 क्या अब मै अध्यापक नही बन सकता
    ॰मेरा यू॰पी॰सरकार से निबेदन है की भरती केवल tet ki merit पर ही करे ताकि योग्य अध्यापको की भरती हो सके
    धन्यबाद

    ReplyDelete
  11. muskag g why did you express your view on court decision of 11th september .

    ReplyDelete
  12. kuchh logon ko to ban jane do bhaiyon teacher aakhir kis se apne ko hara hua aur jeeta hua maan rahe hain aap sab kismat khel hai kam se kam jinka bhala ho raha hai hone do bhaiyon

    ReplyDelete
  13. MERI IK BAAT SAMAJH NHI AA RHI KI COURT ME FASLA 2004 SE 2008 TAK KE VBTC & BTC KE CANDIDATES KE FAVOUR ME AAYA TO 2011 TET CANDIDATES IS FAISLE SSE KHUSH KYO HO RHE


    WHI DUSRI OR KUCHH NEWSPAPER AND ETV UTTAR PARDESH NEWS ME KHA GYA KI 72,825 TET TEACHERS KI BHARTI KA RASTA SAAF HO GYA


    ASLI MATTER KYA HAI

    ANYONE TELL ME

    ReplyDelete
  14. MERI IK BAAT SAMAJH NHI AA RHI KI COURT ME FASLA 2004 SE 2008 TAK KE VBTC & BTC KE CANDIDATES KE FAVOUR ME AAYA TO 2011 TET CANDIDATES IS FAISLE SSE KHUSH KYO HO RHE HAI


    WHI DUSRI OR KUCHH NEWSPAPER AND ETV UTTAR PARDESH NEWS ME KHA GYA KI 72,825 TET TEACHERS KI BHARTI KA RASTA SAAF HO GYA


    ASLI MATTER KYA HAI

    ANYONE TELL ME

    ReplyDelete
  15. i.dosto mai aap sb lgo ko bta dena chahta hu..ki bharti acm se hogi.or gudank pr pahle vichar kiya gya tha.pr aadesh ye hua sarkar ki or se ki bharti acm se kre..ye abhi ka news .ab ye mat puchna ki mai kaha se pta lgya pr 100./' sach h.....
    Or ek news ye ki tet ke ank ke bare me soch ja rha h.pr abhi ye clear nhi h...or bharti ke bare me koi news nhi h..bharti ka nws 15 tarik ko pura sach btauga

    ReplyDelete
  16. UPTET : टीईटी सरकार ने दिया हाईकोर्ट में आश्वासन

    शीघ्र जारी होगा विज्ञापन

    इलाहाबाद (ब्यूरो)। सूबे मेें टीईटी उत्तीर्ण अभ्यर्थियों के सहायक अध्यापक पद पर चयन एवं नियुक्ति के लिए प्रदेश सरकार शीघ्र ही नया विज्ञापन जारी करेगी। मंगलवार को सरकार की ओर से हाईकोर्ट में बताया गया कि दिसंबर 2011 को जारी विज्ञापन रद करने के बाद सरकार शीघ्र ही नया विज्ञापन जारी कर परिषदीय स्कूलों में अध्यापकों के रिक्त पदों को भरेगी। याचिका पर सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने अध्यापकों के पद रिक्त होने पर अपनी चिंता जाहिर करते हुए कहा कि राज्य सरकार का दायित्व है कि वह पर्याप्त संख्या में शिक्षकों की नियुक्ति करे।
    इससे पूर्व सहायक अध्यापकों की नियुक्ति के लिए जारी दिसंबर 2011 के विज्ञापन को चुनौती देने वाली
    यादव कपिलदेव की याचिका हाईकोर्ट ने निष्क्रिय होने के आधार पर खारिज कर दी है। एक अन्य याची शिवप्रकाश कुशवाहा की याचिका पर सुनवाई के दौरान अपर महाधिवक्ता सीबी यादव ने न्यायालय को अवगत कराया कि सरकार बहुत शीघ्र नया विज्ञापन जारी कर पदों पर भर्ती की प्रक्रिया प्रारंभ कर देगी।
    सरकार इस दिशा में लगातार प्रयासरत है। इससे पूर्व 2004, 2007 और 2008 में सहायक अध्यापकों की नियुक्ति की गई थी। इस दौरान टीईटी मामले को लेकर अन्य याचिकाओं पर भी सुनवाई
    दौरान अपर महाधिवक्ता सीबी यादव ने न्यायालय को अवगत कराया कि सरकार बहुत शीघ्र नया विज्ञापन जारी कर पदों पर भर्ती की प्रक्रिया प्रारंभ कर देगी। सरकार इस दिशा में लगातार प्रयासरत है। इससे पूर्व 2004, 2007 और 2008 में सहायक अध्यापकों की नियुक्ति की गई थी। इस दौरान टीईटी मामले को लेकर अन्य याचिकाओं पर भी सुनवाई के लिए 27 सितंबर की तिथि नियत की गई है। एक अन्य याची रत्नेश कुमार पाल ने संशोधन प्रार्थनापत्र दाखिल कर दो सितंबर को प्रदेश सरकार द्वारा जारी अधिसूचना और विज्ञाप्ति को चुनौती दी है। दो सितंबर की अधिसूचना से सरकार ने दिसंबर 2011 को जारी विज्ञापन को रद कर दिया है। न्यायालय ने संशोधन प्रार्थनापत्र पर प्रदेश सरकार को दो सप्ताह में अपना जवाब दाखिल कर देने का निर्देश दिया है

    ReplyDelete
  17. अब पाँचो गुणांक पर भर्ती होने की कसमकस चल रही है=10+12+Ba+be.D+tetअन्त मे केवल Tetपर होगी/और अब ऐसा ही होगा

    ReplyDelete
  18. Tumhare tet merit kya he.aur apne jo akda diya wo apko kaise pata aap antaryami he kya.

    ReplyDelete
  19. dosto bahut log samaj nahi pa rahe hai nirnay kya hai mere hisab se court ne anaya yachika per sunwai karte huai rte ke hisab se govt ko basic school me teacher bhart ke liye vigyapti nikalene ko kaha hai. jo vigyapan govt ko bed tet72825 aur 5500 vbtc v btc tet walo ke liye hoga us per court ye dekhega ke vigyapan rte ke hisab se sahi hai ya nahi baad me connected rit ke sunwai me vigyapan me sansodhan karvayega ki bharti adhar tet merit hi hoga.

    ReplyDelete
  20. sorry dosto 24-03-2012 ki baasi khabar chaap kar longo ko khoob bewkoof bana rahe ho yeh sab isi kaabil hai. BEd kar li to kaabil ban gaye wahh re teachers kya bhawisya hai bacchon ka????

    ReplyDelete
  21. hum sub yah sochte hai ki baat sirf judi ho. chahe tet base par recruitment ho chahe academic par ho sahi. problems to bani rahegi kisi to tet se problem hai to kisi ko merit individual level se upper utha kar socho yaaro hum na sahi meri wife mera bhai sahi kisi dost sahi kya wo 72000 hamare hi log nahi hai mere according tet plus accdemic is good aaj socho yyaro jiyo aur jeene do.




















































































    ReplyDelete
  22. dosto hum sirf individual level hi kyu soch rahe hai? problelms to rahegi kisi ki tet merit cum hogi to academic good hogi or kisi ki tet good hi to academic cum aur hum yese hi ladte rahege aur har naye bed or tet holder ready hojayege aur phir aur jyada comptition phir kya hoga ab kum se kum hamare first list me na ho second me to chance banege think that plz plz plzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzz

    ReplyDelete
  23. Jo ho rha hai wo hone to do. bharti ho jaye itna kya km hai. "Rajiv Yadav" from SHAHJAHANPUR

    ReplyDelete
  24. sach batau to ab bharti ho jane do nahi to na tet wale kahi ke rahenge aur na hi acadmic wale kahi ke rahenge kyoki naye log jinaka bed result aane wala hai unhone bhi tet pas ki hai aur kahi agar next tet ke bad tak vacancy chali gai to ho gaya kalyad

    ReplyDelete
  25. tet tet ke chakar me hua beda gark
    ab gudank ke chakar mera beja na jae sarak

    ReplyDelete
  26. tet tet ke chakar me hua beda gark
    ab gudank ke chakar mera beja na jae sarak

    ReplyDelete
  27. 50%sc/st wale sathiyo 50% pass wale metar m serkar khul ke nahi news de rahi h kahi hum serkar ke gumrah m na rah jaye.or h.c.ke phesale ko hum age na badha paye R.P.Singh - 09878947213

    ReplyDelete

Please do not use abusive/gali comment to hurt anybody OR to any authority. You can use moderated way to express your openion/anger. Express your views Intelligenly, So that Other can take it Seriously.
कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय अभद्र शब्द या भाषा का प्रयोग न करें। अभद्र शब्दों या भाषा का इस्तेमाल आपको इस साइट पर राय देने से प्रतिबंधित किए जाने का कारण बन सकता है। टिप्पणी लेखक का व्यक्तिगत विचार है और इसका संपादकीय नीति से कोई संबंध नहीं है। प्रासंगिक टिप्पणियां प्रकाशित की जाएंगी।